सरोकार और सृजन

डॉ. महेन्द्र भटनागर

सरोकार और सृजन
(3)
READS − 416
Read

Summary

महेंद्र भटनागर जी की कविताएँ एक ऐसे रचनाकार की फलश्रुति है जिसने समय से सीधे आँखे मिलते हुए , समय के एक एक तेवर को जाना और उसको शब्दों में बाँधा  है।  उनकी कविताओ की शरुआती दौर से ही यह विशेषता रही है की कविताओं में भोगे और अर्जित किये गए अनुभव-संवेदनों को  ही उन्हों ने तरजीह दी है. 

Reviews

Write a Review
Sorry! No Reviews found for this content!
contact@pratilipi.com
080 41710149
Follow us on Social Media
     

About Us
Work With Us
Privacy Policy
Terms
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.